अध्यापकों को मंजूर नहीं सरकार का बंचिंग प्रस्ताव

0
63

भोपाल। छठवें वेतनमान में अध्यापकों को सरकार का बंचिंग प्रस्ताव मंजूर नहीं है। डेढ़ घंटे की बैठक में मुख्यमंत्री सचिवालय के वरिष्ठ अफसर अध्यापकों को राजी नहीं कर पाए। अब अध्यापक संघ के नेताओं की सीधे मुख्यमंत्री से मुलाकात करवाई जाएगी। इसलिए गणना पत्रक को फिलहाल रोक दिया गया है। पत्रक पर अब 15 मई के बाद फैसला होगा।

अध्यापकों के छठवें वेतनमान के गणना पत्रक में संशोधन छह माह से अटका है। मुख्यमंत्री सचिवालय के अफसरों ने अध्यापक नेताओं से प्रस्तावित गणना पत्रक पर हाल ही में विस्तार से चर्चा की।

इस दौरान नए प्रस्ताव में बंचिंग फॉर्मूले से अध्यापक नाराज दिखे और उन्होंने प्रस्ताव में फिर से संशोधन की मांग रख दी। उधर, अफसर बंचिंग फॉर्मूले के साथ वेतन का निर्धारण करना चाहते थे। लिहाजा, इस मुद्दे पर डेढ़ घंटे की बैठक में कोई हल नहीं निकला। आखिर अफसरों ने अब उन्हें सीधे मुख्यमंत्री से बात करने को कह दिया है।

मप्र आजाद अध्यापक संघ के अध्यक्ष भरत पटेल ने बताया कि 15 मई तक गणना पत्रक जारी करने से रोक दिया है। पहले मुख्यमंत्री से मुलाकात होगी। हम उनके सामने सारी बातें रखेंगे और उनसे अध्यापकों के पक्ष में निर्णय लेने का अनुरोध करेंगे। पटेल ने बताया कि बंचिंग फॉर्मूले से अध्यापकों को नुकसान है। यह बात अफसरों के सामने रखी गई, लेकिन वे ज्यादा कुछ सुनने को तैयार नहीं हैं।

 

LEAVE A REPLY