इस बंगले की कहानी जानकर रह जाएंगे दंग

0
206

छिंदवाड़ा। शहर के चौक चौराहों पर आवारा श्वान को घूमते हुए तो सभी ने देखा होगा, लेकिन कभी इन्हें पनाह देने की बात किसी ने नहीं सोची होगी। गुरैया रोड पर रानी की कोठी के पास एक बंगला है जहां आवारा श्वान चैन से सोते हैं। यहां श्वानों को बुलाने की जरूरत नहीं पड़ती। वह खुदबखुद यहां खिचे चले आते हैं। इन्हें खाने-पीने के साथ रहने की सुविधा यहां मिलती है। इनकी रखवाली यह बंगला कर रहा है। बंगले में एक अजब सी खामोशी है।

यहां एक महिला इन श्वान को अपनों से ज्यादा प्यार करती है। उनके लिए खाने के सामान, सोने के लिए बिस्तर का इंतजाम करती है। हालांकि महिला अपना परिचय देना नहीं चाहती। उसका कहना है कि यह निस्वार्थ भावना है। मैं किसी को इस बारे में बताना नहीं चाहती।

बंगले में हर तरह के पक्षी

बंगले में केवल आवारा श्वान को ही पनाह नहीं मिली है। इनके अलावा यहां हर तरह के पक्षी भी मौजूद हैं। वह यहां आकर चैन महसूस करते हैं। महिला यहां आए हर एक जानवर, पक्षी को मेहमान समझ कर उसका स्वागत करती है। जिसका मन हुआ वह रूका और जिसका मन हुआ वह चला गया।

काश हर कोई होता ऐसा

अक्सर यह सुनने में आता है कि आवारा कुत्ते लोगों को परेशान करते हैं, लेकिन क्या हमने कभी यह सोचा है कि इन जानवरों को हम पनाह देकर अपना बना सकते हैं।

LEAVE A REPLY