इस भारतीय मां के हौसले को सलाम, चाैथी बार माउंट एवरेस्‍ट पर किया फतह

0
114

नई दिल्‍ली। कहते हैं हौसला हो तो आप कितनी भी उंचाइयों को छू सकते हैं। दो बच्‍चों की मां अरुणाचल की अंशु जनसेंपा इसकी जीती-जागती मिसाल हैं। उन्‍होंने मंगलवार को चौथी बार दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्‍ट को फतह कर पूरे देश को गौरवान्वित किया। वह यह उपलब्धि हासिल करने वाली पहली भारतीय महिला हैं। तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा ने इस साल अप्रैल में उन्‍हें हरी झंडी दिखाकर माउंट एवरेस्ट की चढ़ाई के लिए रवाना किया था।

 

टाइम्‍स अॉफ इंडिया के अनुसार, अंशु अब अगले 10 दिनों में एवरेस्ट पर दोहरी चढ़ाई करेंगी और अगर उनका यह प्रयास सफल हो जाता है तो वह ऐसा करने वाली दुनिया की पहली महिला बन जाएंगी। अंशु की पीआर मैनेजर नंदा किराती दीवान ने कहा, ‘अंशु माउंट एवरेस्ट की चोटी पर सुबह नौ बजे पहुंचीं और उन्होंने वहां देश का झंडा फहराया। उन्हें 2 अप्रैल को हरी झंडी दिखाकर दलाई लामा ने गुवाहाटी से रवाना किया था। अगर वह अपनी दोहरी चढ़ाई में सफल होती हैं तो पांच बार माउंट एवरेस्ट पर सफलतापूर्वक चढ़ाई करने का रिकॉर्ड अपने नाम कर लेंगी।’

ये रही हैं अंशु जनसेंपा की पूर्व उपलब्धियां

गौरतलब है कि अंशु अरुणाचल प्रदेश स्थित बोमडिला इलाके के मोनपा कबीले से आती हैं। 2011 में वह माउंट एवरेस्ट पर 10 दिन के अंतराल में दो बार चढ़ी थीं और ऐसा करने वाली वह दुनिया की पहली मां बनी थीं। अपने अभियान के दौरान वह चाओ ला (5330 मीटर), रेनो (5360) और कांगमा ला (5533 मीटर) की मुश्किल चढ़ाई से गुजरी थीं। इसके बाद 2013 में अंशु ने हिमालय की तीन चोटियां लोबुच (6119 मीटर), पोखालडे (5896 मीटर) और आइसलैंड (6189) पर छह दिनों में चढ़कर फतह हासिल की।

 

LEAVE A REPLY