एमपी में फिर विवादों में पुलिस भर्ती परीक्षा, शिवराज के आदेश के बाद भी मनमानी

0
54

प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (पीईबी) की मनमानी के चलते एक बार फिर मध्य प्रदेश पुलिस भर्ती परीक्षा विवादों में आ गई है. पीईबी पर सीएम शिवराज सिंह चौहान के आदेश को भी नहीं मानने का आरोप लग रहा है.

दरअसल, तकनीकी कारणों के चलते लाखों स्टूडेंट पुलिस भर्ती परीक्षा देने से वंचित रह गए थे. सीएम ने एक स्टूडेंट के ईमेल को गंभीरता से लेते हुए तकनीकी खामियों के चलते वंचित रहे स्टूडेंट की दोबारा परीक्षा कराए जाने के निर्देश दिए थे.

पीईबी केवल कांस्टेबल के पदों के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों की ही परीक्षा आयोजित करा रहा है, जबकि हेड कांस्टेबल और सहायक उपनिरीक्षक के उम्मीदवारों की परीक्षा लेने से इनकार किया जा रहा है. बोर्ड के इस फैसले से इन पदों के उम्मीदवार दोबारा परीक्षा देने से वंचित होने की स्थिति में आ गए हैं.

उल्लेखनीय है कि बोर्ड ने 19 अगस्त से 18 सितंबर के बीच 14,088 पदों के लिए कांस्टेबल की परीक्षा आयोजित की थी, जिसमें करीब 9 लाख परीक्षार्थियों को शामिल हुए थे. तकनीकी कारणों से लगभग 60 हजार परीक्षा देने से वंचित हो गए थे

LEAVE A REPLY