किड्जी स्कूल संचालक अनुतोष प्रताप सिंह गिरफ्तार, थाना प्रभारी अटैच

0
45

भोपाल। किड्जी स्कूल के संचालक अनुतोष प्रताप सिंह को तीन साल की मासूम से ज्यादती के आरोप में मंगलवार देर रात गिरफ्तार कर लिया गया। इससे पहले दोपहर में पीड़ित छात्रा की मॉं ने मामले में पुलिस की हीलाहवाली को देखते हुए पुलिस मुख्यालय में डीजीपी ऋषिकुमार शुक्ला से मुलाकात कर घटना की पूरी जानकारी देते हुए कार्रवाई की मांग की थी।

बताया जाता है इसके बाद ही डीजीपी ने आईजी को इस मामले में आरोपी को तत्काल गिरफ्तार करने और लापरवाही बरतने वाले संबंधित पुलिसकर्मी के विरुद्ध भी आवश्यक कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे। इसके चलते ही दो दिन से फरार आरोपी अनुतोष को देर रात उसके घर से गिरफ्तार कर लिया गया और कोलार थाना प्रभारी गौरव बुंदेला को लाइन अटैच कर दिया गया।

गौरतलब है कि कोलार के दानिशकुंज स्थित गिरधर परिसर में किड्जी स्कूल के संचालक अनुतोष प्रताप सिंह पर नर्सरी की छात्रा से ज्यादती के आरोप में कोलार पुलिस ने 376 और पॉस्को अधिनियम के तहत सोमवार को एफआईआर दर्ज की थी। पीड़िता की मां का आरोप था कि अनुतोष उनकी बच्ची के साथ अश्लील हरकत करता था।

बच्ची से तकलीफ को लेकर पूछने पर उनको इसकी जानकारी लगी थी। इसके बाद ही उन्होंने कोलार पुलिस को लिखित शिकायत की, लेकिन पुलिस ने मामला दर्ज करने बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की थी। बल्कि आरोपी उनको पुलिस अफसरों की धमकी देकर धमकाता रहा और पुलिस उसे फरार बताती रही।

ऐसे हुई गिरफ्तारी : तीन साल के मासूम के परिजन मंगलवार दोपहर जाकर डीजीपी ऋषी कुमार शुक्ला से जाकर मुलाकत की थी। इसमें उन्होंने सीधे कोलार पुलिस पर आरोप लगाए थे कि प्रभारी कोलार टीआई गौरव बुंदेला आरोपी का करीबी है। जिस कारण मामले में गिरफ्तारी नहीं हो रही है। इस पर डीजीपी ने मामले में निष्पक्ष जांच होने और बच्ची को न्याय दिलाने का भरोसा दिलाया था। उसके बाद डीजीपी ने आईजी योगेश चौधरी से घटना की पूरी जानकारी लेने के बाद आरोपी को गिरफ्तार करने और लापरवाह पुलिस अफसर पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

देर रात बदला घटनाक्रम

बताया जाता है कि इस मामले के आरोपी और कोलार थाना प्रभारी के करीबी संबंध सामने आने के बाद पुलिस ने जांच क्राइम ब्रांच को सौंपकर महकमे को आरोपों के घेरे में आने से बचाते हुए निष्पक्ष जांच का हवाला दिया था। बावजूद इसके शाम तक जांच और आरोपी की गिरफ्तारी को लेकर कुछ भी नहीं किया गया। यहां तक कि पीड़ित मासूम और उसकी मॉं द्वारा बयान देने के लिए नहीं आने की बात तक कही गई।

शाम छह बजे के बाद आचानक मामले में यू टर्न आया और रात 11 बजे तक पूरा घटनाक्रम बदल गया। एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा के मुताबिक क्राइम ब्रांच एएसपी रश्मि मिश्रा और एसआई वंदना सिंह ने मासूम बच्ची और उसकी मां के बयान दर्ज कर लिए हैं। बच्ची की मेडीकल रिपोर्ट और सीसीटीपी फुटेज की जांच कर ली गई है। आरोपी अनुतोष प्रताप सिंह को गिरफ्तार करने के साथ ही थाना प्रभारी कोलार गौरव सिंह बुंदेला को लाइन अटैच भी कर दिया गया है।

आरोपी की रिमांड नहीं मांगेगी पुलिस

आरोपी अनुतोष प्रताप सिंह को संभवत: बुधवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। पुलिस सूत्रों की माने तो पुलिस आरोपी की रिमांड की मांग नहीं करेगी। इसके पीछे तर्क यह है कि जल्द से जल्द आरोपी को जेल भेजकर मामले न्यायालयीन प्रक्रिया में लाकर मामले को शांत कर दिया जाए।

 

LEAVE A REPLY