केंद्रीय स्वच्छता सर्वे से पहले होगा नगरीय निकायों का परफॉरमेंस ऑडिट

0
17

भोपाल। केंद्र सरकार द्वारा नगरीय निकायों में कराए जा रहे स्वच्छता सर्वे से पहले नगरीय विकास विभाग प्रदेश के सभी नगरीय निकायों का परफॉरमेंस ऑडिट कराएगा। यह ऑडिट इसलिए कराया जा रहा है ताकि केंद्र के स्वच्छता सर्वे में नगरीय निकायों की तैयारी का अंदाजा लगाया जा सके।

विभाग के अधिकारियों के मुताबिक प्रदेश के सभी नगरीय निकायों में एक टीम जा रही है और तीन दिन रुककर केंद्रीय स्वच्छता सर्वे के मानदंडों पर हो रहे कामों को परख रही है। इस परफॉरमेंस ऑडिट के लिए नगरीय विकास विभाग ने क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया के साथ टाइअप भी किया है। क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया विभाग को तकनीकी मदद दे रही है।

दिसंबर के दूसरे हफ्ते में आएगी रिपोर्ट

नगरीय विकास विभाग द्वारा सभी नगरीय निकायों के परफॉरमेंस ऑडिट की रिपोर्ट दिसंबर के दूसरे सप्ताह तक आएगी। इससे यह साफ हो जाएगा कि नगरीय निकाय केंद्र के स्वच्छता सर्वे में किस स्थान पर रह सकते हैं? रिपोर्ट में नगरीय निकायों के कामों में जो खामियां सामने आएंगी, उसे सुधारने के प्रयास शुरू किए जाएंगे।

गौरतलब है कि इस बार नगरीय निकायों के स्वच्छता सर्वे में 4 हजार नगरीय निकाय हिस्सा ले रहे हैं, इसलिए पिछली बार पहले और दूसरे नंबर पर आने वाले शहरों के अलावा अन्य शहरों के लिए भी ज्यादा बड़ी चुनौती है। केंद्र सरकार के स्वच्छता सर्वे की रिपोर्ट अप्रैल 2018 में आएगी।

इन मानदंडों पर हो रहा ऑडिट

विभाग द्वारा स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 के मानदंडों पर ही ऑडिट कराया जा रहा है। इसमें नगरीय निकायों को नागरिकों के फीडबैक, प्रत्यक्ष अवलोकन, खुले में शौच मुक्त शहर की स्थिति और स्वच्छता के लिए किए जाने वाले नवाचार को आधार पर मानकर परफॉरमेंस ऑडिट कराया जा रहा है।

LEAVE A REPLY