जयललिता की मौत की जांच की मांग उठाई,पन्नीरसेल्वम का शशिकला पर वार,

0
68

नई दिल्‍ली, । तमिलनाडु के पूर्व मुख्‍यमंत्री और अन्‍नाद्रमुक के नेता ओ. पन्‍नीरसेल्‍वम ने एक बार फिर शशिकला पर हमला बोला है। पन्‍नीरसेल्‍वम का कहना है कि पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की मौत की जांच होनी चाहिए। हालांकि सोमवार को ऐसे संकेत मिल रहे थे कि पन्‍नीरसेल्‍वम और शशिकला के धड़ों में सुलह की कोशिशें तेज हो गई हैं।

पन्‍नीरसेल्‍वम ने शशिकला को पार्टी का महासचिव बनाए जाने के फैसले को गलत ठहराया। टाइम्‍स नॉउ की खबर के मुताबिक, पन्‍नीरसेल्‍वम ने कहा कि शशिकला को महासचिव बनाया जाना पार्टी के नियमों के खिलाफ और अवैध है। बता दें कि जयललिता ने अपनी तबीयत खराब होने के बाद पन्नीरसेल्वम को राज्य का सीएम बनाया था। लेकिन जयललिता के निधन के बाद शशिकला खेमा सक्रिय हुआ और पन्नीरसेल्वम को इस्तीफा देना पड़ा। इस बीच शशिकला को पार्टी का जनरल सेक्रेटरी बना दिया गया।

शाशिकला के भतीजे टीटीवी दिनाकरण के मुद्दे पर पन्‍नीरसेल्‍वन ने कहा कि वह तो अम्‍मा के निधन के बाद भी पार्टी के सदस्‍य नहीं थे। ऐसे में उनका एआइएडीएमके के उपमहासचिव के पद पर नियुक्‍त होना अवैध है। वहीं पन्‍नीरसेल्‍वन ने जयललिता की मौत की जांच की भी मांग उठाई है। उन्‍होंने कहा कि अम्‍मा की मौत जिन परिस्थितियों में हुई उसकी जांच होनी चाहिए। साथ ही उन्‍होंने कहा कि अम्मा को धोखा देने वालों को अन्‍नाद्रमुक से जाना होगा।

लेकिन मुख्‍यमंत्री पलानीस्‍वामी का कहना है कि शशिकला और उनके परिवार को इस मुद्दे से अलग रखना चाहिए। प्रत्‍यक्ष या अप्रत्‍यक्ष रूप से उनका पार्टी में कोई रोल नहीं है।

कानून मंत्री सी वी शानमुगम ने कहा कि शशिकला गुट ने अभी तक कोई मांग नहीं रखी है। वे सिर्फ हमारे साथ मिलकर काम करने के इच्‍छुक नजर आ रहे हैं। इसलिए जब वे चाहें, हम उनसे बातचीत के लिए तैयार हैं।

उधर जयललिता की विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव के रद होने के मुद्दे पर पन्‍नीरसेल्‍वन ने कहा कि आर के नगर विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव के प्रचार के दौरान कई गड़बड़ियां की गईं। काफी भ्रष्‍टाचार हुआ। मतदाताओं को लुभाने के लिए चार-चार हजार रुपये तक दिए गए थे।

 

LEAVE A REPLY