नेट बैंकिंग में ज्यादातर ट्रांजेक्शन फेल, देनी पड़ रही पेनाल्टी

0
48

नोटबंदी के बाद से कैशलेस सिस्टम को लगातार बढ़ावा दिया जा रहा है। जिसके चलते अब ज्यादातर लोग ऑनलाइन बैंकिंग सिस्टम को अपना रहे हैं, लेकिन प्रोसेस के दौरान ज्यादातर ट्रांजेक्शन फेल हो जाने के कारण लोगों को काफी परेशानी हो रही है। पिछले तीन-चार दिनों से तकनीकी खराबी के चलते उपभोक्ताओं को नेट बैंकिंग में पेनाल्टी भी भरनी पड़ रही है।

पेमेंट के दौरान ट्रांजेक्शन प्रोसेस बीच में ही रुक जाती है। इतना ही नहीं ट्रांजेक्शन पूरा भी नहीं हो पाता और पैसे कट जाते हैं। इस समस्या से उपभोक्ता खासे परेशान हैं। इस बारे में जिम्मेदार अधिकारियों का कहना है कि लोगों द्वारा सही तरीके से प्रोसेस न करने से ऐसी समस्याएं आती हैं, जबकि लोगों का कहना है कि सिस्टम खुद ब खुद हैंग हो जाता है और ट्रांजेक्शन पूरा नहीं होता।

टिकट बुक कर रहे थे फेल हो गया ट्रांजेक्शन

ई-7 निवासी विभोर शर्मा ने रेलवे रिजर्वेशन कराने के लिए सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की ऑनलाइन बैंकिंग का उपयोग किया, लेकिन प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाई और ट्रांजेक्शन कैंसल हो गया है। इसके बाद उनके कई प्रयास के बाद भी नेट बैंकिंग से ट्रांजेक्शन नहीं हो पाया।

किश्त जमा नहीं हुई, देनी पड़ी पेनाल्टी

शिवाजी नगर निवासी रंजीत सोनी ने अपने वाहन की किश्त जमा करने के लिए पीएनबी की नेट बैंकिंग का उपयोग किया, लेकिन ट्रांजेक्शन पूरा नहीं होने के कारण उन्हें पेनाल्टी देनी पड़ी।

– नेट बैंकिंग से इन कामों में आ रही परेशानी

– फंड ट्रांसफर में

– मोबाइल रिचार्ज

– बिजली, पानी, डिश टीवी व अन्य बिलों के भुगतान पर

– ऑनलाइन खरीददारी

– बस, रेल व अन्य टिकट इन्टरनेट से बुक करवाने पर

– अपना टैक्स व अन्य भुगतान ऑनलाइन करने पर

प्रोसेस में दिक्कत होगी

इंटरनेट बैंकिंग में फिलहाल कहीं कोई परेशानी नहीं हो रही है। अकेले सेंट्रल बैंक से 17 हजार उपभोक्ता प्रतिदिन नेट बैंकिंग का उपयोग कर रहे हैं। इसकी प्रोसेस में कहीं कोई दिक्कत हो रही होगी, क्योंकि उपभोक्ता इसे समझ नहीं पा रहे होंगे। सावधानी पूर्वक प्रोसेस करने पर नेट बैंकिंग आसानी से हो रही है। – अजय व्यास, लीड बैंक, जीएम, भोपाल

LEAVE A REPLY