पतंजलि की घेरेबंदी? दिग्गज कंपनियों के ये प्लान

0
50

नई दिल्ली
देश के एफएमसीजी सेक्टर में लगातार बढ़त बना रही बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि को अब कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ सकता है। कंपनी ने इस फाइनैंशल इयर में अपने रेवेन्यू को दोगुना करते हुए 21,000 करोड़ रुपये तक पहुंचाने का लक्ष्य तय किया है। इस बीच एफएमसीजी सेगमेंट की कई अन्य दिग्गज कंपनियों ने भी अपने मार्केट शेयर को एक बार फिर से कैप्चर करने के प्रयास शुरू कर दिए हैं। इस सेक्टर की लीडिंग कंपनी हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड नैचरल/हर्बल मार्केट में अपने शेयर को बढ़ाने की कोशिशें शुरू कर दी हैं। अब तक इस सेक्टर में पतंजलि के पास बढ़त रही है।

इसके अलावा कोलगेट ने भी टूथपेस्ट के अपने छिटके हुए कारोबार को मजबूत करने के लिए नैचरल प्रॉडक्ट्स पर फोकस करना शुरू किया है। डाबर ने भी ऐलान किया है कि हनी के कारोबार में पतंजलि का वर्चस्व खत्म होने की ओर है। हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड ने राष्ट्रीय स्तर पर आयुष ब्रैंड लॉन्च किया है, जो दक्षिण भारत में खासा सफल रहा है। इसके अलावा बीते दो सालों में हिंदुस्तान यूनिलीवर ने कई नए आयुर्वेदिक ब्रैंड्स को लॉन्च किया है।

एचयूएल के सीईओ और मैनेजिंग डायरेक्टर संजीव मेहता ने कहा, ‘आयुष की शुरुआती शिपमेंट शुरू हो चुकी है।’ मेहता ने कहा, ‘अगले दो से तीन सप्ताह में आयुष प्रॉडक्ट्स की ऐक्टिविटी में इजाफा देखने को मिलेगा। यह मल्टि-कैटिगरी लॉन्च है। दक्षिण भारत में मिले नतीजों से हम खुश हैं। अब हम इसे राष्ट्रीय स्तर पर आगे बढ़ाने के प्रयासों में जुटेंगे।’ स्किनकेयर स्पेस में एचयूएल भारत में सिट्रा बैंड को लॉन्च करने वाला है। एचयूएल के मुताबिक जून तिमाही में कंपनी ने सिट्रा के तहत 12 नए प्रॉडक्ट्स को लॉन्च किया है।

बाजार के विश्लेषकों का मानना है कि सिट्रा से हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड का स्किनकेयर सेगमेंट में दबदबा बढ़ेगा। इससे कंपनी को पतंजलि, डाबर और हिमालय जैसी कंपनियों से मिल रही कड़ी चुनौती से निपटने में मदद मिलेगी।

LEAVE A REPLY