पासपोर्ट बनाने के लिए पांच दिन में हो जाएगा पुलिस वेरिफिकेशन

0
68

भोपाल। पासपोर्ट बनाने के लिए अब पुलिस वेरिफिकेशन की प्रक्रिया मोबाइल एप के जरिए पूरी की जाएगी। इसके लिए प्रदेश के सभी थानों में एंड्राइड फोन या टैब उपलब्ध कराया जाएगा। मई से शुरू होने वाली इस सेवा से पुलिस वेरिफिकेशन में 8 से 10 दिन का समय बचेगा। विदेश मंत्रालय ने पुलिस के लिए विशेष सॉफ्टवेयर तैयार कराया है। मध्यप्रदेश में अभी पुलिस वेरिफिकेशन की प्रक्रिया में औसतन 15 दिन लगते हैं।

विदेश मंत्रालय ने पुलिस की कार्यप्रणाली और तेज करने के लिए ‘एम पासपोर्ट पुलिस एप’ तैयार कराया है। इसमें पुलिस के हर थाने में एंड्रायड फोन अथवा टैब होना जरूरी है। जिस पर पुलिस मुख्यालय ने सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है। अब सभी थानों पर स्मार्ट फोन उपलब्ध कराने पर काम चल रहा है।

ऐसे काम करेगा ‘पासपोर्ट एप’

एम पासपोर्ट एप के एक्टिव होते ही क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय से संबंधित जिले के पुलिस अधीक्षक को एप के जरिए नाम पहुंचाया जाएगा। एसपी आफिस उसे तुरंत संबंधित थाने पर फारवर्ड कर देगा। थाने में मौजूद ‘स्मार्ट फोन’ पर यह सूचना पहुंचते ही ड्यूटी पर तैनात आरक्षक संबंधित व्यक्ति के घर जाकर वेरिफिकेशन की औपचारिक जानकारी उसी समय ‘अपलोड’ कर देगा।

जानकारी एसपी आफिस को मिलते ही क्षेत्रीय पासपोर्ट आफिस में भी रिपोर्ट डिस्प्ले हो जाएगी। इसके बाद पासपोर्ट कार्यालय अगली कार्रवाई करेगा। अभी पुलिस वेरिफिकेशन के लिए फाइल डाक से जाती है जिसके आने-जाने में ही 5-6 दिन लग जाते है।

ऑनलाइन काम होने से यह समय बचने लगेगा। वेरिफिकेशन की रिपोर्ट पासपोर्ट कार्यालय पहुंचने में करीब दो सप्ताह लग जाते है। अब यह काम एक क्लिक पर हो जाएगा। आंध्र-तेलंगाना में हुआ प्रयोग विदेश मंत्रालय ने यह प्रयोग सबसे पहले आंध्र प्रदेश में शुरू किया था।

उसके बाद तेलंगाना ने भी यह प्रक्रिया अपना ली। इसके बाद इन दोनों राज्यों में पुलिस वेरिफिकेशन सबसे जल्दी होने लगा।

मई में शुरू होगा ‘एप’

पासपोर्ट बनने में लगने वाला समय कम करने के लिए मप्र पुलिस से कई दौर की चर्चा हो चुकी है।’एम पासपोर्ट पुलिस एप’ की तैयारी पूरी हो गई है। मई दूसरे सप्ताह तक काम शुरू हो जाएगा।

– मनोज कुमार राय, क्षेत्रीय पासपोर्ट अधिकारी

 

LEAVE A REPLY