पुलिस का यह रूप देख नाराज हुए शिवराज, बीच में रोकना पड़ा नाटक

0
67

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में आईपीएस सर्विस मीट के सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान असहज हो गए.

दरअसल, मंच पर जो नाटक चल रहा था, उसमें थाने में रिपोर्ट नहीं लिखना, रिश्वत लेना… समेत कई पुलिस के खिलाफ दृश्य दिखाए जा रहे थे. इस दौरान पुलिसवालों ने जमकर ठुमके लगाए. ऐसे में सीएम के चेहरे पर इसकी नाराजगी साफ देखी गई और नाटक को बीच में ही रोक दिया गया.

नाटक नाम था ‘लापता गंज थाना’. इस थाने में दिखाया गया कि जब नए आईपीएस अफसर ट्रेनिंग के लिए थाने में आते हैं, तो क्या होता है. पुलिस अधिकारियों की ओर से किया गया नाटक काल्पनिक था, लेकिन जो सच्चाई उसमें दिखाई गई, उसका सीधा संबंध आम जनता से है.

नाटक में नए आईपीएस अधिकारी को जो ट्रेनिंग थाना प्रभारी देता है, वो दरअसल नाटक में एक हेड कांस्टेबल से देता दिखाया दिया. नाटक में जैसे ही रिपोर्ट नहीं लिखने और फरियादी को थाने से भगाने का दृश्य आया, तो सीएम शिवराज और डीजीपी ऋषि कुमार शुक्ला असहज हो गए.

मन ही मन में नाराजगी थी, लेकिन ये नाराजगी जब सामने आई, जब पुलिस के हर उस दृश्य को दिखाया गया, जो वास्तव में थाने में होता है.

नाटक के दौरान सीएम ने डीजीपी से बातचीत की. डीजीपी ने भी आईपीएस एसोसिएशन के अध्यक्ष पवन जैन के सामने अपनी नाराजगी जाहिर की और नाटक को बीच में ही रोकने के निर्देश दिए.

नाटक में आखिर दृश्य में जो था, वो अवैध वसूली और रिश्वतखोरी से जुड़ा था. थाना प्रभारी चालानी कार्रवाई के दौरान अवैध वसूल कैसे करते हैं, ये इसमें दिखाया गया.

इस नाटक के बाद कार्यक्रम आगे बढ़ता, लेकिन नाटक को बीच में रोककर शिवराज सिंह चौहान ने इनाम बांटे और फिर कार्यक्रम आगे नहीं बढ़ सका

LEAVE A REPLY