प्रदेश की महिला अध्यापकों को ‘चाइल्ड केयर लीव’ का दें लाभ : हाईकोर्ट

0
91

जबलपुर। मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने अपने एक महत्वपूर्ण आदेश में महिला अध्यापक को संतान पालन अवकाश (चाइल्ड केयर लीव) का लाभ दिए जाने की व्यवस्था दी है। शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कटंगी, बालाघाट में पदस्थ अध्यापिका कविता पटले की याचिका पर यह आदेश पारित होने के साथ ही इसी आधार पर राज्य की शासकीय स्कूलों में कार्यरत हजारों अन्य अध्यापिकाओं को भी यह लाभ मिलने का रास्ता साफ हो गया है।

न्यायमूर्ति सुजय पॉल की एकलपीठ के समक्ष मामले की सुनवाई हुई। इस दौरान याचिकाकर्ता की ओर से अधिवक्ता सत्येन्द्र ज्योतिषी व विकास मिश्रा ने पक्ष रखा। उन्होंने दलील दी कि याचिकाकर्ता को 1 अगस्त 2015 को पुत्र की प्राप्ति हुई।

लिहाजा, जिला शिक्षा अधिकारी के समक्ष 11 जनवरी 2016 से 10 मार्च 2016 तक 2 माह का अवकाश स्वीकृत किए जाने का आवेदन प्रस्तुत किया गया। लेकिन यह आवेदन खारिज कर दिया गया। इसके लिए दलील यह दी गई कि मध्यप्रदेश शासन वित्त विभाग के 6 अगस्त 2016 के आदेश के तहत यह आवेदन मंजूर किए जाने योग्य नहीं है।

बहस के दौरान अधिवक्ता श्री ज्योतिषी ने साफ किया कि महिला अध्यापकों की सेवाएं नियमित शिक्षकों के समान हैं। ऐसे में उन्हें संतान पालन अवकाश मिलना उनका अधिकार है। हाईकोर्ट ने पूरे मामले पर गौर करने के बाद महिला अध्यापकों को नियमित शिक्षिकाओं के समान संतान पालन अवकाश के अलावा मातृत्व अवकाश से संबंधित अन्य सभी लाभ दिए जाने का महत्वपूर्ण आदेश पारित कर दिया।

LEAVE A REPLY