भारत-पाक सीमा पर नहीं बनेगी कंक्रीट की दीवार: गृह मंत्रालय

0
62

गृह मंत्री राजनाथ सिंह लगातार अलग-अलग जगहों पर यह कहते रहे हैं कि भारत-पाकिस्तान सीमा और भारत-बांग्लादेश सीमा को 2018 के अंत तक पूरी तरह सील कर दिया जाएगा. इसमें सबसे बड़ा कदम इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस के जरिए भारत-पाकिस्तान सीमा और भारत-बांग्लादेश सीमा को सील करना होगा.गृह मंत्रालय ने बुधवार को अपने लिखित जवाब में उस बात की जानकारी दी कि भारत-पाकिस्तान सीमा पर कंक्रीट की दीवार बनाने की कोई योजना नहीं है. पाकिस्तान की सीमा को पूरी तरीके से सील करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस में कई स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाने के लिए इजराइल से संपर्क किया गया है और कई तकनीक इजरायल से खरीदी जा रही है. जानकारी के मुताबिक पांच स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था बनाने के लिए भारत इजरायल से फॉलिएज पेनीट्रेटिंग राडार भी खरीद रहा है.गृह मंत्रालय ने अपने लिखित जवाब में राज्यसभा को जानकारी दी है कि भारत सरकार के पास पाकिस्तान सीमा पर दीवार के निर्माण का कोई प्रस्ताव नहीं था. सरकार ने भारत-पाकिस्तान सीमा पर सुरक्षा व्यवस्थाओं के लिए एक बहुआयामी नीति अपनाई है. जिन व्यवस्थाओं में सीमा सुरक्षा बल की तैनाती के साथ-साथ सीमा पर हाई टैक बाड़ का निर्माण करना, सीमावर्ती सड़कों का निर्माण करना, फ़्लैश लाइट लगाना सीमा चौकियों का निर्माण और उच्च तकनीक वाले निगरानी उपकरण लगाने की योजना है. साथ ही सुरक्षा बलों को हथियार एवं विशेषज्ञता वाले वाहन प्रदान करने का कदम आने वाले समय में गृह मंत्रालय सुरक्षा के लिहाज से उठाता रहेगा.पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में फर्जी तरीके से भारत की नियंत्रण रेखा पर दीवार बनाने की योजना की बात कही थी. उसी समय भारत ने पाकिस्तान के इस कदम पर कड़ी प्रतिक्रिया जताते हुए कहा था कि वह ‘उपयुक्त समय’ पर इसका जवाब देगा. अब भारत ने साफ कर दिया है कि कोई दीवार बनाने का विचार नहीं है. 2015 में पाकिस्तान ने फर्जी तरीके से भारत पर आरोप लगाने की कोशिश की थी कि जम्मू-कश्मीर और पाकिस्तान के बीच की 197 किलोमीटर लंबी कार्य सीमा पर 10 मीटर ऊंचा और 135 फुट चौड़ा पुश्ता (दीवार) बनाने की भारत की योजना है.

LEAVE A REPLY