मध्य प्रदेश से लाकर दिल्ली में करते थे ड्रग की सप्लाई

0
65

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश से लाकर दिल्ली में ड्रग सप्लाई करने वाले ड्रग कॅरियर पंजाब के लुधियाना के आलमगीर गांव निवासी सुखविंदर सिंह (58) को पुलिस ने दबोचा है। वहीं उसकी निशानदेही पर रतलाम से ड्रग माफिया विनय जैन उर्फ सेठ (46) को स्पेशल सेल की टीम ने दबोच लिया। ड्रग तस्करों के पास से 4 किलो हेरोइन व 10 किलो अफीम के अलावा एक ट्रक व मोबाइल फोन-सिम कार्ड बरामद किया गया।

डीसीपी स्पेशल सेल के मुताबिक 22 सितंबर को ट्रक से ड्रग की सप्लाई करने पहुंचे सुखविंदर सिंह को दबोचा गया। ट्रक की तलाशी लेने पर 4 किलो हेरोइन व 10 किलो अफीम बरामद की गई। पूछताछ में उसने बताया कि वह मप्र के ड्रग माफिया करू के जरिए विनय जैन के संपर्क में आया था।

करू के जेल जाने के बाद विनय मप्र का ड्रग माफिया बन गया और 7 साल से सुखविंदर उसके साथ मिलकर ड्रग की सप्लाई दिल्ली, पंजाब, उत्तर प्रदेश में कर रहा था। वह ड्रग सप्लाई के बदले हर ट्रिप के एक लाख रुपए विनय से लेता था।

सुखविंदर से मिली सूचना पर स्पेशल सेल की एक टीम रतलाम पहुंची और विनय जैन को दबोच लिया। पूछताछ में पता चला कि विनय बीते 20 साल से ड्रग तस्करी का काम कर रहा है और मध्य प्रदेश पुलिस उसे कई बार दबोच चुकी है।

बदलवा दी थी फॉरेंसिक की रिपोर्ट 

स्पेशल सेल के अनुसार 2013 में विनय जैन व कलु को पंजाब पुलिस ने 25 किलो अफीम के साथ पकड़ा था, लेकिन अपने प्रभाव का इस्तेमाल करते हुए विनय ने फॉरेंसिक लैब की रिपोर्ट बदलवा दी थी। जांच में मामला सामने आने पर फॉरेंसिक लैब के 17 अधिकारी-कर्मचारी निलंबित किए गए थे। प्रकरण की जांच अब भी चल रही है। विनय के रसूख का पता इसी से चलता है कि उसकी भाभी जेठ श्वेता मध्य प्रदेश के ताल नगर पालिका की चेयरमैन है और भाई संजय सदस्य है।

LEAVE A REPLY