विमान से अकेले दुनिया के सफर पर निकली अफगानी युवती

0
77

मॉन्ट्रियल। 29 साल की शाइस्ता वाइज विमान से अकेले दुनिया का चक्कर लगाने के सफर पर निकली हैं। यदि वे अपना सफर पूरा कर लेती हैं तो ऐसा करने वाली सबसे कम उम्र की महिला होंगी।

इस अफगानी युवती ने सोमवार को अटलांटिक और आसपास के क्षेत्रों का अपना सफर शुरू किया। उन्होंने शनिवार को अमेरिका के फ्लोरिडा में डेटोना बीच से उड़ान भरी थी।

बोनान्जा ए36 विमान से वह करीब 25,800 किलोमीटर की दूरी तय करेंगी। इस दौरान भारत सहित 18 मुल्कों से गुजरेंगी। अगस्त में फ्लोरिडा लौटते ही उनका सफर पूरा हो जाएगा। सफर के दौरान वे 30 बार रुकेंगी।

शाइस्ता का जन्म सोवियत युद्ध के अंतिम दिनों के दौरान अफगानिस्तान के एक शरणार्थी शिविर में हुआ था। 1987 में परिवार के साथ अमेरिका चली गईं। छोटी उम्र में ही उन्होंने उड़ने का ख्वाब पाल लिया।

वह सबसे कम उम्र में पायलट का लाइसेंस हासिल करने वाली अफगानी महिला भी हैं। सफर के दौरान कुछ देर के लिए मॉन्ट्रियल में रुकी शाइस्ता ने बताया, जब मुझे अपनी चाहत का एहसास हो गया, मैंने खुद को चुनौती देना शुरू कर दिया।

मैंने दुनिया को अलग नजरिये से देखना शुरू किया। आसमान को भी अलग नजर से देखने लगी। सबसे अहम है कि आप अपनी चाहत का पता लगाएं और फिर उसी दिशा में बढ़ते रहें।

सफर के दौरान इंजीनियरिंग ग्रेजुएट शाइस्ता जहां-जहां रुकेंगी वहां-वहां अंतरराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन स्कूली बच्चों में विज्ञान और एयरोनॉटिक्स की रुचि जगाने के लिए कार्यक्रम आयोजित करेगा।

संगठन के मुताबिक कमर्शियल पायलटों में महिलाओं की तादाद पांच फीसद से भी कम है। शाइस्ता को उम्मीद है कि इन कार्यक्रमों से बच्चों को यह समझाने में कामयाब रहेंगी कि यह क्षेत्र उनके जीवन में किस तरह से बदलाव ला सकता है।

अपने गैर लाभकारी संगठन ड्रीम्स सोर की वेबसाइट पर वे लिखती हैं, जब भी मैं किसी विमान का दरवाजा खोलती हूं, खुद से पूछती हूं-मेरी पृष्ठभूमि वाली कोई लड़की इतनी खुशकिस्मत कैसे हो सकती है? लेकिन, सच्चाई यह है कि कोई भी मेरे जैसा बन सकता है।

 

LEAVE A REPLY