शिक्षा में सुधार के दावे किए एक भी पूरा नहीं करा पाए

0
57

भोपाल। स्कूल शिक्षा मंत्री विजय शाह ने एक साल के कार्यकाल में निजी और सरकारी स्कूल, शिक्षक और बच्चों से सीधे संबंध रखने वाली आधा दर्जन घोषणाएं कीं, पर एक भी पूरी नहीं करवा पाए। वे सिर्फ अलग-अलग मंच पर घोषणाएं ही दोहराते रहे। शाह 2 जुलाई 2016 को विभाग के मंत्री बने थे।

रिजल्ट बिगड़ने से तनाव में आकर विद्यार्थियों को आत्महत्या करने से रोकने में भी मंत्री विफल रहे। देश में एक दर्जन विद्यार्थियों ने आत्महत्या की, जबकि महिला एवं बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनीस की अध्यक्षता में गठित ‘छात्रों द्वारा मानसिक तनाव के कारण आत्महत्या करने संबंधी सामाजिक समस्या के समाधान समिति ने 24 मार्च 2017 को विधानसभा में रिपोर्ट प्रस्तुत कर दी थी।

उसमें आत्महत्या के 55 कारण और 70 समाधान भी बताए थे। 12 मई को हाई स्कूल और हायर सेकंडरी स्कूल का रिजल्ट आने के बाद सरकार को रिपोर्ट की याद आई। मंत्री शाह अब सवालों से बच रहे हैं। एक हफ्ते में उनसे कई बार फोन पर और बंगले पर पहुंचकर संपर्क करने की कोशिश की गई। खंडवा में उनसे घर जाकर बात करनी चाही, लेकिन वे पूरी बात सुनकर सवाल टाल गए।

LEAVE A REPLY