सहमति से बनाए संबंध को कोर्ट ने नहीं माना दुष्कर्म

0
132

नई दिल्ली। तीस वर्षीय एक महिला डेंटिस्ट से दुष्कर्म व धमकी देने के आरोप से सत्र न्यायालय ने एक आरोपी को बरी कर दिया। कोर्ट ने कहा कि दोनों ने सहमति से संबंध बनाए थे। महिला इतनी परिपक्व थी कि वह समझ सके कि इसका अंजाम क्या होगा।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश संजीव जैन ने आरोपी को बरी करते हुए कहा, “सुनवाई के दौरान यह भी पाया गया कि सरकारी अस्पताल में कार्यरत महिला डेंटिस्ट एक बार गर्भपात करा चुकी थी। वह दूसरी बार फिर गर्भवती हुई, जबकि उसे पता था कि दूसरी बार गर्भपात कराना उसकी सेहत के लिए गंभीर हो सकता है।

तथ्य व परिस्थितियां बताती हैं कि उनके संबंध सहमति से बने थे और महिला ने किसी झांसे में आकर रिश्ते नहीं बनाए थे। वह इतनी परिपक्व थी कि यह समझ सके कि दोनों के बीच क्या चल रहा है।” मैट्रिमोनियल साइट से मिलेजज ने अपने फैसले में यह भी कहा कि दोनों की मुलाकात एक मैट्रिमोनियल साइट के जरिए हुई थी।

दोनों ने शादी के लिए अपने-अपने परिवारों में चर्चा की थी। महिला का परिवार विवाह के पक्ष में था जबकि आरोपी की मां तैयार नहीं थी। डेंटिस्ट आरोपी में बहुत अधिक रुचि ले रही थी और जानती थी कि उनकी शादी पक्की नहीं है, क्योंकि आरोपी की मां तैयार नहीं थी।

बगैर शादी क्यों बनाए रिश्ते?

कोर्ट ने कहा, “शादी पर जोर दिए बगैर महिला संबंध के लिए तैयार क्यों हुई? वह यह जानते हुए भी दूसरी बार गर्भवती हो गई कि दूसरी बार गर्भपात कराना उसकी सेहत को गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है। दोनों के बीच संदशों व बातचीत से ऐसे कोई संकेत नहीं मिलते कि संबंध बनाने के पूर्व उसे किसी तरह का धोखा दिया गया हो।

संदेह का लाभ देकर बरी

कोर्ट ने संदेह का लाभ देकर आरोपी फरमान खालिद को संदेह का लाभ देकर दुष्कर्म व धमकी देने के आरोपों से बरी कर दिया। पुलिस के अनुसार आरोपी दक्षिण दिल्ली का रहने वाला है। वह 2010 में महिला के संपर्क में आया था।

उसके खिलाफ दुष्कर्म की शिकायत जून 2011 में दर्ज कराई गई, जबकि वह अप्रैल 2011 में गर्भवती हुई थी, लेकिन आरोपी द्वारा शादी के लिए सहमति देने पर उसने गर्भपात करा दिया। वह मई में फिर गर्भवती हो गई।

आरोपी ने उससे रिश्ते तोड़ने की धमकी दी तो मामला पुलिस में आया। सुनवाई के दौरान आरोपी ने दावा किया कि उसे झूठा फंसाया गया है, क्योंकि उसके परिवार द्वारा शादी से इनकार के कारण वह बदला लेना चाहती थी।

 

LEAVE A REPLY