सामूहिक शादी समारोह में वेटर बने 400 सरकारी टीचर्स

0
78

मध्य प्रदेश में सरकारी तंत्र के दुरुपयोग का मामला सामने आया है, जहां सोमवार को राज्य सरकार द्वारा आयोजित सामूहिक शादी समारोह में सरकारी स्कूल के 400 शिक्षकों को वेटर के तौर पर काम कराया गया।

बताया जाता है कि यह वाकया सिंगरौली जिले में हुए मुख्यमंत्री कन्यादान योजना कार्यक्रम का है। शिक्षकों के विरोध के चलते उन्हें सीएम शिवराज सिंह चौहान के आने से ठीक पहले ही वहां से हटा दिया गया।

इसके साथ ही बताया जाता है कि सिंगरौली जिले में आयोजित मुख्यमंत्री कन्यादान योजना कार्यक्रम के लिये शिक्षकों को जिला शिक्षा अधिकारी की तरफ से खाना परोसने का लिखित आधिकारिक आदेश मिला था। सभी शिक्षकों को यह स्पष्ट तौर पर निर्देश था कि उन्हें कौन-कौन सा खाना परोसना है। कुछ शिक्षकों को पूड़ी सर्व करने का आदेश था तो कुछ को सब्जी। वहीं कुछ को दाल तो कुछ को चांवल। राज्य के स्कूल शिक्षा मंत्री दीपक जोशी ने जिला शिक्षा अधिकारी से इस मामले में रिपोर्ट मांगी है।

बताया जाता है कि शिक्षकों को शादी कार्यक्रम में आये 2390 जोड़ों और उनके परिजनों को खाना परोसने के लिये वेटर के काम में लगाया गया था। विरोध कर रहे शिक्षकों ने वेटर के तौर पर काम करने को अपमानजनक बताया। वहीं बलराम सिंह नामक एक शिक्षक ने कहा, कि जब उन्हें ऐसा करने का आदेश मिले, तो फिर वे क्या कर सकते हैं। यह काम करने के अलावा उनके पास कोई दूसरा विकल्प नहीं था। उनसे किसी कार्यक्रम में खाना परोसने को पहली बार कहा गया है।

LEAVE A REPLY