सीएम ने कहा- जिलों में समीक्षा करें, यशोधरा राजे बोलीं- अफसर सुनते ही नहीं

0
93

भोपाल। प्रदेश भाजपा कार्यकारिणी में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जो तल्खी दिखाई थी, वह तीन दिन बाद भी बरकरार है। मंत्रालय में शिवराज ने मंत्रियों के साथ मंगलवार को बंद कमरे में आधा घंटे बैठक की। उन्होंने कहा कि मंत्री सप्ताह में तीन दिन अनिवार्य रूप से ग्रामोदय अभियान में जाएं।31 मई को सभी प्रभार के जिलों में अभियान की समीक्षा करें। इस पर खेल एवं युवा कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने कहा कि अफसर सुनते ही नहीं हैं।इस पर मुख्यमंत्री बोले- वे बिल्कुल सुनेंगे, आपको काम करवाना पड़ेगा। मंत्रियों को कार्यप्रणाली में सुधार लाने की नसीहत देते हुए उन्होंने कहा कि कर्मचारी हड़ताल कर रहे हैं और मंत्री ध्यान ही नहीं दे रहे। सब-कुछ वित्त विभाग पर छोड़ देते हैं। ऐसा नहीं होना चाहिए।सूत्रों के मुताबिक कैबिनेट बैठक के बाद मंत्रियों के साथ चर्चा में मुख्यमंत्री ने कहा कि जब तक कोई बहुत जरूरी काम न हों, सोमवार को विभाग के कामकाज की समीक्षा करें। मंगलवार को कैबिनेट बैठक में मौजूद रहें। बैठक के बाद अब डेढ़ घंटे प्रभारी मंत्री से जिलों में चल रहे कामों पर बात होगी। प्रभार के जिले में दो दिन जाएं।कार्यक्रमों की समीक्षा करने के साथ जनप्रतिनिधि और संगठन पदाधिकारियों से बात करें। पार्टी का आधार जिले में कैसे बढ़े, इस पर काम करें। कर्मचारियों की हड़ताल को लेकर मुख्यमंत्री ने नाराजगी जताई और कहा कि जब काम करने का समय आया तो ये हड़ताल पर बैठ गए। ऐसा नहीं चलेगा। सभी अपने विभागों पर ध्यान दें। हड़ताल हो रही है और होने दें, ये ठीक नहीं है।भाजपा कार्यकारिणी से गायब होने वाले मंत्रियों से सीएम ने कहा कि आप लोगों को कार्यसमिति में इसलिए रखा गया है कि पार्टी की विचारधारा और कार्यक्रमों से जुड़ें। बैठक में दूसरे दिन नौ लोग थे। सिर्फ वहां मुहं दिखाकर चले गए। ये लापरवाही है। मुझे आज ही पता चला कि ललिता यादव प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान को बताकर गई थीं। फीस को नियंत्रित करने के मामले को लेकर बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि इंदौर की हुकुमचंद मिल को लेकर हाईकोर्ट ने फैसला दे दिया। फीस को लेकर भी आए दिन कोर्ट में पेशियां होती रहती हैं। ऐसा न हो कि कोर्ट कोई फैसला दे दे और वाहवाही उनको मिल जाए।जब ये बात कह रहे थे, तब स्कूल शिक्षा मंत्री विजय शाह ने कहा कि डेली कॉलेज, सिंधिया जैसे स्कूलों की फीस कैसे तय करेंगे, इस पर आपसे बात करना है। इस पर यशोधरा राजे सिंधिया ने कहा कि ये प्रीमियर इंस्टीट्यूट हैं, इन्हें क्यों दायरे में ला रहे हैं।मुख्यमंत्री ने जून-जुलाई में प्रस्तावित अधिसूचित क्षेत्रों के नगरीय निकाय चुनाव की जिम्मेदारी प्रभारी मंत्रियों को सौंप दी। उन्होंने कहा कि पार्टी को चुनाव जिताने की जिम्मेदारी प्रभारी मंत्री की होगी।

 

LEAVE A REPLY