सैलरी में 30 फीसद कटौती बर्दाश्त करें जूनियर पायलटः जेट एयरवेज

0
76

नई दिल्ली। जेट एयरवेज के जूनियर या ट्रेनी पायलट अपने वेतन में 30 फीसद कटौती के लिए तैयार रहें। देश की इस प्रमुख विमानन कंपनी ने पत्र भेजकर यह फरमान सुनाया है।

सूत्रों की मानें तो इन पायलटों से यह भी कहा गया है कि इन्कार की स्थिति में वे नौकरी छोड़ सकते हैं। लागत घटाने मकसद से जेट एयरवेज यह कदम उठा रही है। पायलटों को भेजे एक पत्र में जेट एयरवेज के प्रबंधन ने फर्स्ट ऑफिसर (जूनियर पायलट) से कहा है कि वे वेतन में कटौती को बर्दाश्त करें।

सूत्रों की मानें तो इस कटौती की जद में एयरलाइन के करीब 400 ऐसे पायलट आएंगे। जहां तक इन पायलटों का सवाल है तो उन्होंने प्रबंधन के साथ अगली बैठक में इस मामले को उठाने की बात कही है। इस एयरलाइन के एक साल अनुभव वाले जूनियर पायलट या को-पायलट को दो लाख रुपए से ज्यादा वेतन मिलता है।

जेट एयरवेज ने अपने बयान में सैलरी घटाने के इस फैसले के पीछे खाड़ी क्षेत्र समेत बाजार में हालत बदलने को प्रमुख वजह बताया है।

कंपनी का कहना है कि वह फ्लीट और नेटवर्क मजबूत करने के लिए ऐसा कदम उठाने जा रही है। कंपनी खास तौर पर खाड़ी देशों में अपना नेटवर्क और विमानों की संख्या बढ़ाने की योजना पर काम कर रही है। पायलटों के साथ जेट एयरवेज वर्क एडजस्टमेंट की तैयारी में है।

इंडिगो और स्पाइसजेट जैसी सस्ती सेवा देने वाली एयरलाइनों से कड़ी टक्कर झेल रही जेट एयरवेज को पिछले कई महीनों से लगातार बाजार में अपनी बढ़त गंवानी पड़ी है। संयुक्त अरब अमीरात की एतिहाद एयरवेज के स्वामित्व वाली यह कंपनी आय के संकट से जूझ रही है।

LEAVE A REPLY