10 हजार नकद इनाम देकर डीजीपी ने थपथपाई आरक्षक तेज की पीठ

0
52

रीवा। जान जोखिम में डालकर कोर्ट परिसर में संजय द्विवेदी को गोली मारने आए शार्प शूटर से दो-दो हाथ करने वाले मनगवां थाने के आरक्षक तेज प्रकाश सिंह के काम की पुलिस विभाग के मुखिया ने प्रशंसा की और आरक्षक को 10 हजार रुपए का नकद इनाम देकर पीठ भी थपथपाई है।

इस अवसर पर प्रदेश के डीजीपी ऋषि कुमाार शुक्ला ने कहा कि आरक्षक तेज प्रकाश सिंह पूरे प्रदेश के पुलिस बल के लिए प्रेरणा स्रोत हैं।

सपने साकार होने जैसा

आरक्षक तेज प्रकाश सिंह को नकद पुरस्कार देते समय एडीजी राजीव टंडन एवं रीवा डीआईजी आरपी सिंह मौजूद रहे। पुरस्कार मिलने के बाद आरक्षक तेज ने कहा कि जब वह पुलिस में भर्ती हुआ था तब उसने सपने में भी नहीं सोचा था कि पुलिस विभाग के मुखिया उसे राजधानी बुलाकर उसके काम को लेकर उसे पुरस्कार से सम्मानित करेंगे। यह सम्मान उसके लिए किसी सपने साकार होने से कम नहीं है।

आरक्षक ने इन्हें दिए श्रेय

आरक्षक तेज ने विपरीत परिस्थितियों में काम करने का श्रेय रीवा आईजी आशुतोष राय, डीआईजी आरपी सिंह, एसपी संजय सिंह, एडिशनल एसपी शिव कुमार सिंह, एसडीओपी मनगवां एलडी सिंह व थाना प्रभारी यूपी सिंह को दी है।

रुस्तम पुरस्कार के लिए भेजा प्रस्ताव

कोर्ट में हुए गोलीकांड एवं शार्पशूटरों को योजना में कामयाब होने से रोकने वाले आरक्षक तेज को मप्र पुलिस का सर्वोच्च पुरस्कार रुस्तम से पुरस्कृत करने के लिए रीवा एसपी संजय कुमार ने भोपाल प्रस्ताव भेजा है। इस प्रस्ताव के तहत उन नव आरक्षकों व पुलिस कर्मी को यह सम्मान दिया जाता है जो ड्यूटी के दौरान या ड्यूटी पर न होने के बावजूद जान की परवाह किए बगैर अदम्य साहस का परिचय देते हुए अपराधी को पकड़ने या किसी बड़े अपराध को होने से रोकने के लिए संघर्ष करते हैं। उस पुलिस कर्मी को इस अवार्ड से प्रदेश के मुखिया 15 अगस्त या 26 जनवरी को सम्मानित करते हैं।

 

LEAVE A REPLY