2240 करोड़ के फर्जी लेनदेन में निदेशक सहित 4 दिल्ली में गिरफ्तार

0
89

कटनी। कटनी के आनंद बिहार कॉलोनी में सेल्स टैक्स विभाग की टीम ने बड़ी कार्रवाई करते हुए शुक्रवार को स्विल माइंस के सात बंगलों को अपने कब्जे में ले लिया। उधर, दिल्ली में सीबीआई ने 2240 करोड़ रुपए के फर्जी लेनदेन के एक अन्य मामले में कंपनी के निदेशक संजय जैन व राजीव जैन सहित चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया है।

जानकारी अनुसार विभाग ने कई बार नोटिस भेज स्विल माइंस को बकाया 129 करोड़ रुपए का टैक्स जमा करने को कहा। ऐसा न करने पर विभाग ने कंपनी से उसके कटनी स्थित बंगलों की चाबी देने को कहा। लेकिन जब कंपनी ऐसा भी नहीं किया तो विभाग ने कार्रवाई करते हुए कंपनी के सात बंगलों को ही सीज कर दिया।

इस दौरान भारी पुलिस बल तैनात रहा। गौरतलब है कि कंपनी ने 2008 में गुदरी, निमास, बड़गांव, सुनेहरा, कछार गांव और पिपरोंद में खदानें खोली थीं। लेकिन 2010 में इन्हें बंद कर यहां से भाग गई।

यह है मामला

स्लीमनाबाद के गुदरी में स्विल माइंस की खदान थी। खदान बंद होने के बाद कंपनी यहां से चली गई, लेकिन उस पर करीब 129 करोड़ रुपए टैक्स के रूप में बकाया था जो उसने जमा नहीं किया था। इस पर विभाग ने गुदरी और निमास में खदान को पहले ही अपने कब्जे में ले लिया था। आनंद बिहार कॉलोनी में स्विल माइंस के कई बंगले थे। शुक्रवार को इन बंगलों को भी विभाग ने अपने कब्जे में ले लिया। विभागीय अफसरों ने बताया कि जल्द ही बंगलों की नीलामी की जाएगी।

2240 करोड़ रुपए का फर्जी लेनदेन

स्विल माइंस लिमिटेड गुदरी कटनी के निदेशक संजय एवं राजीव जैन सहित दो अन्य लोग संजीव अग्रवाल एवं रोहित चौधरी सूर्य विनायक इंडस्ट्री का संचालन करते थे। इन्होंने 100 से अधिक फर्म खोलकर विभिन्न् बैंकों के माध्यम से 2240 करोड़ रुपए का लेनदेन किया। दिल्ली के पंजाब नेशनल बैंक की शिकायत पर सीबीआई ने इन सभी को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी जैन बंधु ने 300 करोड़ रुपए की वर्किंग कैपिटल को विदेश स्थित कंपनियों को भी भेजा है।

इनका कहना है

2008 में दिल्ली निवासी संजय व राजीव जैन ने स्विल माइंस के नाम से स्लीमनाबाद क्षेत्र में मारबल की कंपनी खोली थी, लेकिन 2010 में इन्होंने कंपनी बंद कर दी। इन पर करीब 129 करोड़ का टैक्स बकाया था। विभाग ने कई बार नोटिस जारी किया, लेकिन इन्होंने टैक्स जमा नहीं किया। तब जाकर यह कार्रवाई की।

मनीष महारणवर, सीटीओ कटनी

 

LEAVE A REPLY