3 तलाक पर दिया वोट, अब मोदी निभाएं वादा’

0
66

सहारनपुर
उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में जब भारतीय जनता पार्टी (BJP) को शानदार सफलता मिली, तो इस जीत का विश्लेषण भी खूब हुआ। इस जीत के पीछे जातीय और धार्मिक समीकरण की थिअरी पर बात करने के अलावा एक मुख्य तर्क यह भी दिया गया कि तीन तलाक का विरोध करने वाली मुस्लिम महिलाओं ने बड़ी संख्या में BJP को वोट दिया। BJP की ओर से भी कहा गया है कि तीन तलाक पर उसके रुख को देखते हुए बड़ी तादाद में मुस्लिम महिलाओं ने उसके पक्ष में मतदान किया है। अब तीन तलाक के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करने वालीं सहारनपुर की आतिया साबरी ने खुलकर BJP को वोट देने की बात कही है। मालूम हो कि BJP ने अपने चुनावी घोषणापत्र में भी तीन तलाक का मुद्दा उठाया था।

स्थानीय मीडिया से बात करते हुए आतिया ने कहा कि BJP द्वारा तीन तलाक का विरोध करने के कारण उन्होंने उसे वोट दिया। BJP को तीन तलाक की प्रथा खत्म करने के अपने वादे पर अमल करने को कहते हुए आतिया ने बताया कि हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में उन्होंने और उनके परिवार ने बीजेपी प्रत्याशी को वोट दिया। तीन तलाक के खिलाफ आतिया द्वारा दायर की गई याचिका पर 30 मार्च को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है।

आतिया के पति ने कागज पर तीन तलाक लिखकर उनके साथ अपना रिश्ता तोड़ लिया था। आतिया इस तलाक का विरोध करते हुए सुप्रीम कोर्ट में कानूनी लड़ाई भी लड़ रही हैं। मीडिया से बात करते हुए आतिया ने कहा कि BJP प्रत्याशी को वोट देने के उनके दावे की जांच की जा सती है। उन्होंने कहा कि VVPAT से निकली पर्ची को बतौर सबूत देखा जा सकता है। आतिया ने PM नरेंद्र मोदी से तीन तलाक की प्रथा को प्रतिबंधित करने की भी अपील की। आतिया के भाई ने भी BJP को वोट देने की बात कही है। उन्होंने कहा कि अब इतनी बड़ी जीत हासिल करने के बाद BJP को तीन तलाक पर किया गया अपना वादा निभाना चाहिए।

मालूम हो कि आतिया की शादी साल 2012 में हुई थी। उनकी दो बेटियां हैं। उनका आरोप है कि लगातार दो बेटियों के जन्म से उनके पति और ससुराल वाले नाराज थे और इसीलिए उन्हें घर से निकालना चाहते थे। आतिया का आरोप है कि ससुराल वालों ने पहले तो उन्हें जहर खिलाकर मारने की कोशिश की। फिर 2016 में आतिया के पति ने एक कागज पर तीन तलाक लिखकर उनसे तलाक ले लिया। इस विवाद में दारुल उलूम देवबंद का नाम भी शामिल है। आतिया का आरोप है कि दारुल उलूम ने उनके पति द्वारा कागज पर तीन बार लिखकर भेजे गए तलाक को जायज बताया था।

LEAVE A REPLY